हरिद्वार:17 जून,राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शनिवार को हरिद्वार में उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय के 10वें दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने विश्वविद्यालय के मेधावी छात्र-छात्राओं को पदक और शोधार्थियों को शोध उपाधियां प्रदान की। दीक्षांत समारोह में राज्यपाल द्वारा पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य बालकृष्ण को आयुर्वेद एवं भारतीय ज्ञान परम्परा के संरक्षण के लिए तथा शिक्षाविद् पद्मश्री डॉ. पूनम सूरि को समाज सेवा एवं वैदिक शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए डी. लिट की मानद उपाधि प्रदान की गई। राज्यपाल ने इस अवसर पर विश्वविद्यालय की नई शोध पत्रिका ‘देवभूमि जर्नल ऑफ मल्टीडिसीप्लिनरी रिसर्च’ का भी विमोचन किया।

दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने पदक एवं उपाधि प्राप्त करने वाले सभी छात्र-छात्राओं एवं उनके अभिभावकों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने उपाधि प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं से कहा कि आप सभी संस्कृत के प्रचार एवं प्रसार में अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि संस्कृत को पूरे विश्व तक ले जाना आप सभी की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि युवा आने वाले 25 वर्ष विकसित भारत, आत्मनिर्भर भारत, समृद्ध भारत, श्रेष्ठ भारत और विश्वगुरू भारत के लक्ष्यों को प्राप्त करने में पूर्ण उत्साह, समर्पण और निष्ठा के साथ कार्य करें।

राज्यपाल ने युवाओं का आह्वान किया कि वे अपनी परम्पराओं का संरक्षण करते हुए भारत को समृद्ध और दुनिया का सर्वश्रेष्ठ राष्ट्र बनाने के महान अभियान का हिस्सा बनें। उन्होंने कहा कि संस्कृत भाषा में उपलब्ध ज्ञान में सभी चुनौतियों का समाधान निहित है। देश की एकता में संस्कृत का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि संस्कृत हमारी समृद्ध संस्कृति का आधार और भारत की आत्मा की वाणी है। उन्होने कहा कि संस्कृत भाषा भारतीयता की डीएनए है एवं प्राचीन के संरक्षण के साथ नवीन ज्ञान का प्रयोग भी आवश्यक है।

राज्यपाल ने संस्कृत विश्वविद्यालय की उपलब्धियों की प्रशंसा करते हुए संस्कृत के विकास एवं प्रचार-प्रसार के लिए सराहना की। उन्होंने संस्कृत के क्षेत्र में लड़कियों को ज्यादा अवसर व प्रोत्साहन देने पर जोर दिया ताकि संसकृत का ज्ञान प्रत्येक घरों तक पहुंचे। राज्यपाल ने विश्वविद्यालय में 04 शोध पीठों की स्थापना होने पर खुशी जताते हुए इसे विश्वविद्यालय के हित में सराहनीय कदम बताया।

अपने संबोधन में कुलपति प्रोफेसर दिनेश चंद्र शास्त्री ने विश्वविद्यालय की उपलब्धियों, भविष्य की योजनाओं और चुनौतियों को विस्तार से सामने रखा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय को शासन स्तर पर उच्च शिक्षा विभाग के अंतर्गत संचालित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि संस्कृत विश्वविद्यालय की प्रकृति को देखते हुए यहां पर प्राचीन ज्ञान से संबंधित न्याय, वैशेषिक, सांख्य, मीमांसा, वेदांत, धर्मशास्त्र और पुराणों आदि से संबंधित उच्च स्तरीय अनुसंधान होना जरूरी है। इसके लिए अपेक्षित संख्या में पद उपलब्ध न होने के कारण चुनौतियां बनी हुई हैं।

दीक्षांत समारोह के आधार संबोधन में केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय नई दिल्ली के कुलपति प्रोफेसर श्रीनिवास बरखेड़ी ने कहा कि संस्कृत विश्वविद्यालयों को भारतीय ज्ञान प्रणाली के उल्लेखनीय केंद्रों के रूप में विकसित होना चाहिए। साथ ही संस्कृत को आधुनिक तकनीकों का प्रयोग करके लोगों तक पहुंचाना चाहिए। उन्होंने उत्तराखंड को ज्ञान की भूमि बताया और कहा कि यहां के छात्रों और शिक्षकों को अपनी मूल परंपरा का संरक्षण करते हुए अंतरविषयी ज्ञान को बढ़ावा देना चाहिए।

दीक्षांत समारोह के समापन से पूर्व कुलसचिव गिरीश कुमार अवस्थी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। वरिष्ठ आचार्य प्रोफेसर दिनेश चमोला ने स्नातकों को उपाधि हेतु उपस्थित किया। संचालन का दायित्व डॉ शैलेश तिवारी ने निभाया।

Don't Miss

*रविदास जयंती के मौके पर अंबेडकर सेवा समिति बेडपुर को मोहम्मद इंतजार ने 5100 रुपए भेंट किए ,उपस्थितगणों ने आभार व्यक्त किया* रिपोर्ट : तसलीम कुरैशी पिरान कलियर/हिंदू मुस्लिम एकता की मिशाल बन रहे प्रधान प्रतिनिधि एवं सुराज सेवादल के वरिष्ठ नेता मोहम्मद इंतजार एक से बढ़कर एक कार्य कर रहे है। इसी को आगे बढ़ाते हुए आज रविदास जयंती के मौके पर नगर पंचायत पिरान कलियर गांव बेडपुर के हरिजन भाईयो को अंबेडकर सेवा समिति को 5100 रुपए भेंट किए। इतिहास पर इतिहास रचकर लोगो के दिलो पर राज कर रहे है हर तरफ पीरपुरा प्रधान प्रतिनिधि मोहम्मद इंतजार (अलीशा ट्रेडर्स) की जय जयकार हो रही है। प्रधान प्रतिनिधि पीरपुरा एवं वरिष्ठ नेता सुराज सेवादल मोहम्मद इंतजार ने धर्म जात से ऊपर उठकर एक से एक बढ़कर कार्य कर रहे है और एक खूबसूरत हिंदुस्तान बनाने में अपना योगदान देते चले आ रहे है ऐसे नेताओ की वजह से हिंदुस्तान की मिशाल लोग विदेशो में बड़े गर्व के साथ देते आ रहे है इन्ही जैसे नेताओं की वजह से हमारा हिन्दुस्तान एक गुलदस्ते की तरह है जिसमे हर तरह तरह के फूल है और सदियों से हिंदू ,मुस्लिम, सिख, ईसाई बड़े प्यार मोहब्बत के साथ रहते चले आ रहे है। ये ही तो एक खूबसूरत हिंदुस्तान है। आज मोहम्मद इंतजार को हर एक कार्यक्रम में मुख्यअतिथि के रूप में बुलाए जा रहे है मोहम्मद इंतजार आज सभी के दिलो की धड़कन बनकर एक ईमानदार कर्मठ जुझारू अपनो के सुख दुख में साथ खड़े रहने वाले नेता है।विधायक सहित किसी भी जनप्रतिनिधि इस समय कही नजर नहीं आ रहे है और जगह जगह मोहम्मद इंतजार का भव्य स्वागत हो रहा है। इस अवसर पर अंबेडकर सेवा समिति ग्राम बेडपुर के अध्यक्ष : डॉ० सोनू कुमार,उपाध्यक्ष : हरी कुमार, रोहित,विकास,रोबिन,राहुल,मंजीत, दक्षित,सूरज आदि उपस्थित रहे।

error: Content is protected !!